माणिक्यलाल वर्मा का जीवन परिचय, manikyalal verma ka jivan parichay – My blog

0
162
माणिक्यलाल वर्मा
माणिक्यलाल वर्मा

वर्मा जी ने पुणे मेवाड़ लौटकर 1938 की ईसवी में माणिक्यलाल वर्मा हरिपुरा कांग्रेस अधिवेशन में भाग लिया अतः उन्होंने रियासतों के प्रति अपने नीति घोषणा की तथा 24 अप्रैल 1938 की ईसवी में वर्मा जी ने सक्रिय सहयोग से मेवाड़ प्रजामंडल की सुदृढ़ स्थापना की अजमेर से मेवाड़ का शासन एक छोटी सी पुस्तिका में प्रकाशित किया माणिक्यलाल वर्मा को देवली के निकट गांव से 2 फरवरी 1939 को गिरफ्तार कर मेवाड़ सीमा में लेकर आए तथा उनके साथ बहुत ही अधिक दूर व्यवहार किया मेवाड़ के प्रजामंडल में माणिक्यलाल वर्मा ने प्रतिनिधि के रूप में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी में 8 अगस्त 1942 में ऐतिहासिक सत्र में भाग लिया

1.रामनारायण चौधरी का जीवन परिचय, रामनारायण चौधरी के आंदोलन, ramnarayan choudhary ka jivan parichay, ramnarayan choudhary ke andolan

2.हरिदेव जोशी का जीवन परिचय, हरिदेव जोशी का जन्म, haridev joshi ka jivan parichay, haridev joshi ka janm

माणिक्यलाल वर्मा स्वतंत्रता में योगदान, manikya lal verma ka swatantrata me yogdan

माणिक्यलाल वर्मा उदयपुर पहुंच कर उन्होंने प्रजा मंडल के कार्यकर्ताओं से अपना विचार विमर्श किया और 24 घंटे में महाराणा को ब्रिटिश सरकार के संबंध से विच्छेद करने या आंदोलन का सामना करने की चेतावनी दी गई मेवाड़ प्रजामंडल के कार्यकारिणी के सभी सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया गया और उनको चेतावनी वापस लेने के लिए वापस सरकार द्वारा दबाव डाला गया लेकिन वर्मा जी ने चेतावनी वापस लेने से मना कर दिया और विधानसभा में संविधान लागू करने के लिए वर्मा जी ने काफी अधिक उन पर जोर दिया तथा स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद राजस्थान के प्रधानमंत्री के रूप में नियुक्त हुए और माणिक्य लाल वर्मा की मृत्यु पर्यंत लोगों की सेवा करते हुए 14 जनवरी 1969 को हो गई

1.जमनालाल बजाज का जीवन परिचय, jamnalal bajaj ka jivan prichay

2.सागरमल गोपा का जीवन परिचय, sagarmal gopa ka jivan parichay

माणिक्यलाल वर्मा का जन्म, manikya lal verma ka janm

जन्म : 4 दिसम्बर , 1897 जन्म स्थल : बिजौलिया ( भीलवाड़ा ) मेवाड़ का वर्तमान शासन ‘ नामक पुस्तक के प्रकाशक माणिक्यलाल वर्मा ने अक्टूबर , 1938 में विजयदशमी के दिन प्रजामण्डल पर लगी रोक हटाने के लिए हुए सत्याग्रह आन्दोलन का अजमेर में संचालन किया । सन् 1941 में मेवाड़ प्रजामण्डल के पहले अधिवेशन की अध्यक्षता की । वर्माजी का लिखा हुआ ‘ पंछीड़ा ‘ नामक गीत बहुत लं 1948 में संयुक्त राजस्थान के प्रधानमंत्री व 1967 में राजस्थान खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष भी रहे ।

1.मोहनलाल सुखाड़िया का जीवन परिचय, mohanlal sukhadiya ka jivan prichay

2.गोकुल भाई भट्ट का जीवन परिचय, gokul bhai bhatt ka jivan parichay

3.भोगीलाल पंड्या का जीवन परिचय, bhogilal pandya ka jivan parichay

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here