भांडारेज नगर, भांडारेज नगर की स्थापना, झाझीरामपुरा नगर ( दौसा ), bhandarej nagar, bhandarej nagar ki sthapana, jhajhirampura nagar ( dosa ) – My blog

0
97
भांडारेज नगर
भांडारेज नगर

दौसा से लगभग 9 – 10 कि . मी . पूर्व में स्थित भांडारेज नगर पुरातात्विक महत्त्व एक प्राचीन कस्बा है । जनमानस में इसका सम्बन्ध महाभारतकालीन भद्रावती नगरी से जोड़ा जाता है । यहाँ पा भद्रेश्वर महादेव का प्राचीन मंदिर आज भी विद्यमान है जो इस धारणा की पुष्टि करता है । भांडारेज के विगत वैभव से आकर्षित हो ब्रिटिश शासनकाल में प्रसिद्ध पुरातत्वेत्ता जनरल कनिंघम के सहायक पुरातत्वज्ञ कार्लाइल ने सन् 1871 – 72 में दौसा के साथ भांडारेज का भी ऐतिहासिक शोध सर्वेक्षण किया था । पुरातत्व विभाग के अन्वेषक दल को भांडारेज स्थित भंडान माता के प्राचीन मंदिर के प्रांगण में बौद्ध स्तूपों के पुरावशेष स्तम्भ , रैलिंग इत्यादि मिले हैं

जिनका समय लगभग दूसरी शताब्दी ईस्वी अनुमाननित किया गया है ।

1.सांभर नगर, जोबनेर नगर, कालवाड़ नगर ( जयपुर ), sambhar nagar, jobner nagar, kalavad nagar jaipur

2.करणसर नगर ( जयपुर ), अचरोल नगर, चौमूं नगर, प्राचीन नगर और कस्बे, karansar nagar, achrol nagar, chomu nagar, prachin nagar or kasbe

भांडारेज नगर की स्थापना bhandarej nagar ki sthapana

मंदिर के प्रांगण में ईसा पूर्व प्रथम शताब्दी की तीन यक्ष प्रतिमाएँ तथा गुप्तकालीन देवालयों के अवशेष उपलब्ध हुए हैं

जो इस स्थान की प्राचीनता के ज्ञापक हैं । उपलब्ध साक्ष्यों से पता चलता है

कि यह प्राचीन कस्बा एक विशालकाय परकोटे के भीतर बसा था

जिसके चार प्रमुख दरवाजे — खेड़ली दरवाजा , बावड़ी दरवाजा , मीणा दरवाजा तथा भन्डान दरवाजा भांडारेज की एक अनमोल धरोहर यहाँ के कुम्भाणी शासकों द्वारा निर्मित वह भव्य और कलात्मक बावड़ी है जो इस प्राचीन कस्बे के दक्षिण में स्थित है ।

भांडारेज में इसके अलावा और भी बावड़ियाँ और कंड हैं । इनमें वि . संवत् 1891 में बना

नानगराम का कुंड ( छोटी बावड़ी ) , बंध की बावड़ी , रैबारियों की बावड़ी इत्यादि उल्लेखनीय हैं ।

1.दौसा के प्राचीन नगर, दौसा नगर, दौसा नगर की स्थापना, dosa ke prachin nagar, dosa nagar, dosa nagar ki sthapana

2.dosa ka kila, dosa kile ki sthapana, dosa kile ki sanskriti (दौसा का किला, दोसा किले की स्थापना)

झाझीरामपुरा नगर ( दौसा ) jhajhirampura nagar ( dosa )

बसवा कस्बे से लगभग 4 कि . मी . पर अरावली पर्वतमाला से परिवेष्ठित झाझीरामपुरा एक सुरम्य और रमणीक धार्मिक स्थान है । यहाँ एकादश रुद्र महादेव का प्राचीन मन्दिर तथा विशाल एवं भव्य जल कुण्ड बने है ।

बसवा से झाझीरामपुरा के मार्ग में एक भव्य और आकर्षक बावड़ी है

जो स्थानीय बोलचाल में हाथी बावड़ी ‘ कहलाती है ।

1.राजस्थान के पुराने कस्बे, जयपुर के पुराने कस्बे, जमवारामगढ़ नगर जयपुर, जमवारामगढ़ नगर की स्थापना, rajasthan ke purane kasbe, jaipur ke purane kasbe, jamwaramgarh nagar jaipur, jamwaramgarh nagar ki sthapana

2.शाहबाद का दुर्ग ( बारां ), शाहबाद किले की स्थापना (shahabad ka durg (bara), shahabad kile ki sthapana)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here